Showing posts with label fitness-tips-in-hindi. Show all posts
Showing posts with label fitness-tips-in-hindi. Show all posts

Monday, 8 August 2016

शरीर को फिट रखने में बहुत मददगार होता है केला... जानिए कैसे?

healthpatrika.com     08:37:00    
नियमित केला खाना हमारी सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। केला कई गुणों की खान हैं। इससे हमें सिर्फ ऊर्जा ही नहीं मिलती, यह शरीर को फिट रखने में हमें मदद करता है। कई बीमारियों से उबरने में केला काफी मददगार है। रोजाना इसका सेवन बहुत ही फायदेमंद होता है। एक केला निरंतर ऊर्जा को बढ़ाता है। केले में तीन प्राकृतिक शुगर पाए जाते हैं- सूक्रोज, फ्रक्टोज और ग्लूकोज।
banana-is-helpful-to-keep-body-fit-health-tips-in-hindi

केले में थाइमिन, रिबोफ्लेविन, नियासिन और फॉलिक एसिड के रूप में विटामिन-Aऔर विटामिन-B पर्याप्त मात्रा में मौजूद होता है। इसके अलावा केला ऊर्जा का सबसे अच्छा स्रोत माना जाता है। दरअसल, केले में विटामिन-C, विटामिन-A, पौटेशियम और विटामिन B-6 होता है।

केला ऊर्जा का बहुत अच्छा स्रोत माना गया है, इसमें औसतन 105 कैलोरी पायी जाती हैं जो शरीर को किसी भी प्रकार की कमजोरी से बचाती है। अगर आप कसरत करने के बाद थक जाते हैं, तो तुरन्त एक केला खा लीजिए यह खून में ग्लूकोज का स्तर बढ़ा कर आपको शक्ति और उर्जा प्रदान करता है।

केले में पोटेशियम की मात्रा अधिक होती है और सोडियम की मात्रा बहुत कम होती है जिसकी वजह से यह आपके ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करता है। यह आपके शरीर में पानी की कभी कमी नहीं होने देता है और आपके शरीर को दिल के दौरे और स्ट्रोक से बचाता है।


केले में ऐसे बहुत से तत्व पाये जाते हैं जो अम्लता यानि एसिडिटी से बचाते हैं। यह आपके पेट में अंदरूनी परत चढ़ा कर अलसर जैसी बीमारियों से बचाता है। आपको बता दे कि केले में फाइबर पाया जाता है, जिससे पाचन क्रिया मजबूत बनती है। गैस्ट्रिक की बीमारी वाले लोंगो के लिये केला बहुत प्रभावशाली उपचार है।

Friday, 5 August 2016

विराट कोहली ऐसे रखते है खुद को फिट... देखिये Video!

healthpatrika.com     17:24:00    
नई दिल्ली : कहते हैं हार्ड वर्क का कोई शॉर्टकट नहीं होता। भारतीय क्रिकेट टीम के टेस्ट कप्तान विराट कोहली एक ऐसे खिलाड़ी बनकर उभरे हैं, जो मैदान में हर रोज नया कीर्तिमान बनाने की होड़ में जुटे हैं। लेकिन इसके पीछे वह कितनी लगन से मेहनत करते हैं, इसका आप अंदाजा भी नही लगा सकते हैं।
virat-kohli-s-fitness-workout-video

एक टीम को लीड करना आसान काम नहीं! इसके लिए वह मैदान में प्रैक्टिस तो करते ही हैं, लेकिन इसके अलावा जिम में वह कितना मुश्किल वर्कआउट करते हैं, इसका उन्होंने एक वीडियो शेयर कर खुलासा किया है।
virat-kohli-s-fitness-workout-video

इंस्टाग्राम पर शेयर किए एक वीडियो में वह हर्कुलियन एक्सरसाइज करते दिख रहे हैं। आखिरकार वेटलिफ्टिंग भी इंटेंस फिटनेस के लिए जरूरी है। ये वीडियो उनके फैन्स को जरूर मोटिवेशन देगा।


देखिये विडियो :-

Wednesday, 11 May 2016

'सिक्स पैक ऐब्स' बनाना है तो जरुर करें ये काम... जानिए!

healthpatrika.com     22:16:00    
आमतौर पर हर पुरुष में सिक्स पैक बनाना चाहते है। पर इसको बनाना इतना आसान नहीं है। लेकिन अगर आप कुछ बातों पर ध्यान दें तो आसानी से सिक्स पैक ऐब्स बना सकते हैं। आइये जानते है...

how to get six pack abs in hindi

आपको ना सिर्फ अपने वर्कआउट पर ध्यान देना होगा बल्कि अपनी डायट का भी खास ध्यान रखना है। सबसे पहले आपको अपने भोजन पर नियंत्रण करना होगा। अगर आप दिन में तीन बार भरपेट खाना खाते हैं तो आपको तीन के बजाय पांच से छह बार खाना होगा। यानी आप कम-कम मात्रा में 3 बार के बजाय 6 बार खाना खाएं।

दरअसल, एक ही बार भरपेट खाने से पेट की मांसपेशियों पर बहुत अधिक बल पड़ता है जिससे मोटापा बढ़ जाता है और शरीर बेडौल हो जाता है। शु्गर युक्त चीजें, अधिक कैलोरी वाले फूड और एल्कोहल का सेवन करने से बचें.मक्खन, चीज जैसी चीजों का सेवन ना करें। इससे शरीर में ताकत आएगी और मांसपेशियां मजबूत होंगी।

कम काबोहाइड्रेट्स लें लेकिन फाइबर युक्त फूड अपनी डायट में अधिक से अधिक शामिल करें। शु्गर युक्त चीजें, अधिक कैलोरी वाले फूड और एल्कोहल का सेवन करने से बचें.मक्खन, चीज जैसी चीजों का सेवन ना करें। ऑयली फूड से दूर रहें। चाहे तो पीनट बटर का सेवन कर सकते हैं लेकिन कम मात्रा में.पानी दिन में कम से कम 8 गिलास या इससे अधिक पीएं।

Sunday, 20 March 2016

तो अक्षय कुमार ऐसे रखते है खुद की फिट...

healthpatrika.com     13:45:00    
बॉलीवुड के सुपरस्टार अक्षय कुमार का कहना है कि फिट रहने के लिए सबसे प्रभावी और आसान तरीका नियमित रूप से टहलना है।

akshay-kumar-fitness-secrets

अक्षय कुमार की फिटनेस का राज:-

यह भी पढ़ें :- फिट रहने के लिए अपनाएं ये 9 आसान उपाय...

अक्षय कुमार ने कहा, ‘‘मेरी फिटनेस का राज सिर्फ टहलना है। मेरा पुरजोर मानना है कि फिट रहने का सबसे अच्छा तरीका टहलना है और मैं हर किसी को इसे शुरू करने के लिए प्रोत्साहित करता हूं, चूंकि यह तंदुरूस्त रहने का सबसे आसान और सबसे प्रभावी तरीका है।’’ उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘मैं समूचे भारत से अनुरोध करता हूं कि वे टहलने का संकल्प लें और अच्छे स्वास्थ्य के लिए एक कदम बढ़ाएं। ’’ करीब 10,000 परिवारों ने इस पहल के शुभारंभ के दिन भाग भी लिया था।

अगर आप को भी खिलाड़ी कुमार के जैसे फिट रहना है तो अब टहलना कर दीजिए शुरु। 

Thursday, 18 February 2016

महिलाओं को फिट रहने के लिए क्या-क्या करना चाहिए... जानिए

healthpatrika.com     19:21:00    
महिलाएं अक्‍सर अपनी सेहत का सही प्रकार से ध्‍यान ही नहीं रख पातीं। ऐसे में उन्‍हें कई समस्‍याएं हो जाती हैं। कामकाजी महिलाओं के लिए यह समस्‍या और भी अधिक होती है क्‍योंकि घर और दफ्तर के बीच सही तालमेल बैठा पाना कोई आसान काम नहीं। लेकिन, इन कुछ बातों का ध्‍यान रख वे अपने स्‍वास्‍थ्‍य का सही प्रकार से ध्‍यान रख सकती हैं।



तेज चलना : धीरे-धीरे चलना छोडिए और तेज चलिए। क्योकि तेज चलने से आपके शरीर में रक्‍त संचार बढ़ता है और इससे आपकी सेहत पर सकारात्‍मक प्रभाव पड़ता है।

फुर्ती से करे काम : फुर्ती से काम करने में अधिक ऊर्जा खर्च होती है। इससे शरीर की अतिरिक्‍त चर्बी भी खत्‍म होगी।

पैदल चलें : फिट रहने के लिए पैदल चलना भी अतिआवश्यक हैं। और ऑफिस में अगर संभव हो तो लिफ्ट की जगह पर सीढि़यों का प्रयोग करें। अपने घर से बस स्‍टॉप अथवा मेट्रो तक पैदल जाएं। अगर वक्‍त मिले तो अपनी सोसायटी के पार्क में टहलने जाएं। इन सबसे आपको मानसिक और शारीरिक दोनों प्रकार के लाभ होंगे।

थोड़ा-थोड़ा खाएं :एक ही बार भरपेट खाने से अच्‍छा है कि थोड़ी-थोड़ी देर बाद कुछ न कुछ खाती रहें। लेकिन खाते समय इस बात का जरूर ध्‍यान रखें कि वह पौष्टिक हो। तला-भुना खाना आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है। दफ्तर में शाम को अगर भूख लगे तो हेल्‍थी स्‍नैक्‍स का ही सहारा लें।

ब्रेक लें : कुछ लोग दिन भर बैठकर कंप्यूटर के सामने सारा समय बिताते हैं जो स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह हो सकता है। अगर आपके साथ भी ऐसा है तो लगातार एक जगह चिपककर ना बैठें, थोड़ी-थोड़ी देर में खड़ी होकर टहलें, हाथ-पैरों को भी हिलाएं व थोड़ा सा हलका-फुलका व्यायाम भी करें। हर बीस मिनट के बाद दूर जगह पर दृष्टि डालें, नजर टिका कर देखने की कोशिश करें। रोशनी बहुत ज्यादा न रहे, तेज रोशनी आंखों में तनाव पैदा करती है। यदि सीधे इससे बचत संभव न हो तो इसके लिए चमक रहित स्क्रीन अपने मॉनीटर पर लगाएं। बार-बार पलकें भी झपकाएं, यह आंखों की अच्छी एक्सरसाइज होती है।

दांतों का दुश्मन सोडा : बचपन से सुनते आई होंगी कि सोडा से दांत खराब होते है। इसको ज्यादा नही पीना चाहिए और अब इस बात की पुष्टि डॉक्टरों ने भी कर दी है। नेशनल हेल्थ एंड न्यूट्रीशन एक्जामिनेशन सर्वे के अनुसार जो लोग दिन में तीन से चार बार सोडा पीते हैं उनके दांतों के खराब होने के खतरा 62 प्रतिशत अधिक होता हैं। ऐसे व्यक्तियों में दांतों के टूटना, उनके पीलेपन व दांतों में गड्ढे पड़ने की संभावना अधिक हो जाती है।

तनाव से बचें : आजकल तनाव या कुंठा होने का कोई सीधा कारण नहीं होता। घर से ऑफिस पहुंचने की चिंता, काम समय पर खत्म करने की चिंता, बस में भीड़-भाड़ की घबराहट या फोन कनेक्ट न हो पाने की चिड़चिड़ाहट बहुत सारी वजहें हैं जो व्यर्थ ही तनाव को पैदा करती हैं। इसका असर पूरी दिनचर्या पर पड़ता है। अब जानकारों ने इसका आसान हल बताया है कि अपने गुस्से को अंदर दबा कर न रखे, बल्कि बाहर निकालें। ऐसे काम करें जिससे आप तनाव वाली बातों को भुला सकें जैसे लंबी सैर पर जाएं, किसी मनोरंजक खेल को खेलें या फिर बागवानी में ध्यान लगाएं। 

वजन कम करें : अगर आप मोटापे को लेकर परेशान हैं और अपना वजन कम करने के लिए जिम या हेल्थ सेंटर्स के चक्कर लगाने के अलावा डाइटिंग भी कर रही हैं तो अब आपके लिए एक खुशखबरी है। एक शोध से पता चला है कि घर बैठकर भोजन करते हुए भी आप अपने वजन पर काफी हद तक नियंत्रण रख सकती हैं। इसके लिए बस आपको पहले दस मिनट तक भोजन धीरे-धीरे और चबाकर खाना होगा।  इसके तुरंत बाद आपका दिमाग वजन कम करने की प्रक्रिया शुरू कर देगा और आप भूख से अधिक नहीं खाएंगी। इसका परिणाम कुछ ही दिनों में आपके सामने आ जाएगा।

ब्लड प्रेशर पर नियन्त्रण : अपनी अच्छी व मीठी यादों को याद कर आप अपने खुशनुमा पलों को ताजा कर सकती हैं। इससे आपका खराब मूड तो सुधरेगा ही और साथ-साथ रक्तचाप भी नियंत्रित होगा, ऐसा शोधकर्ताओं का मानना है। जब भी कभी नेगेटिव थिकिंग हावी होने लगे तो खुशनुमा पलों को याद करें। कैलिफोर्निया में हुए अध्ययन के अनुसार, “ऐसी घटनाओं को सोच कर जिनसे आपका चेहरा तमतमा उठे या गुस्सा आने लगे”, आपका ब्लड प्रेशर बढ़ाएगा, दिल का रोगी बनने में भी देर नहीं लगेगी। इसलिए दूर कीजिए उन दुखद यादों को और याद कीजिए खुशनुमा पलों को।

Wednesday, 17 February 2016

जो़ड़ो के दर्द से बचना है तो डाइट में शामिल करे जिंक..

healthpatrika.com     14:07:00    
हमारे शरीर के 300 से अधिक एंजाइम और हार्मोन को सही से काम करने के लिए ज़िंक की बहुत आवश्यकता होती है। और यही नहीं उपयुक्त मात्रा में ज़िंक लेने से मीठा खाने की आदत पर भी काबू किया जा सकता है। साथ ही इसके अनेक फायदे ओर भी होते हैं। डायटीशियन और स्पोर्ट्स न्यूट्रीशनिस्ट बताते हैं कि ज़िंकयुक्त आहार का सेवन करने से अर्थराइटिस के दर्द (जो़ड़ो के दर्द) से आराम मिलता है। हालांकि ये केवल अर्थराटिक के लक्षणों को सामान्य करता है, इसे ठीक करने में जिंक का कोई खास रोल नहीं होती है।
अर्थराइटिस क्‍या है :- जो़ड़ो मे दर्द की समस्या को कहते है अर्थराइटिस या गठिया रोग ।

including zinc in your diet will save from arthritis


ज़िंक कैसे है अर्थराइटिस में फायदेमंद : अर्थराइटिस की स्थिती में शरीर के जोड़ों में सूजन और दर्द होता है। हड्डियों का खनिजीकरण करने के लिए ज़िंक एक महत्वपूर्ण अवयव की तरह काम करता है। साथ ही जिंक प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) बढ़ाने में भी बहुत सहायक होता है। कुछ समय पूर्व हुए एक शोध से यह बात सामने आयी कि मेनोपॉज़ के बाद जो महिलाएं अपयुक्त मात्रा में ज़िंक लेती हैं उनके अर्थराइटिस (ख़ासतौर पर रूमेटाइड अर्थराइटिस) होने का खतरा कम हो जाता है। ज़िंक एक एंटीऑक्सीडेंट की तरह भी काम करता है, जोकि फ्री रैडिकल्स को कम करने में मददगार होते हैं।

गौरतलब है कि फ्री रैडिकल सूजन व अन्य बड़ी बीमारियों के कारक हो सकते हैं। वहीं एक दूसरे शोध से यह बात सामने आयी कि ज़िंक के निम्न स्तर और ऑस्टियोपरॉसिस के बीच भी संबंध होते है। इससे यह साफ होता है कि यदि जिंक की उपयुक्त मात्रा ली जाए तो हड्डियों को मज़बूत बनाने में मदद की जा सकती है और अर्थराइटिस के लक्षणों को भी कम किया जा सकता है। 


सावधानियां : ध्यान रहे कि डॉक्टर की सलाह के बिना ज़िंक सप्लीमेंट लेना ठीक नहीं होता है। आपके शरीर को जिंक की जरूरत है या नहीं, या कितनी जरूरत है, इस संबंध में आप डॉक्टर या डायटीशियन की सलाह जरुर लें। हालांकि अदरक, तोफू मछली व पालक आदि को जिंक के प्राकृतिक श्रोतों के रूप में लिया जा सकता है।

Saturday, 13 February 2016

ये घरेलू नुस्खे अपनाएं और दूर भगाएं शरीर की कमजोरी

healthpatrika.com     15:04:00    
कार्यशैली और खान-पान की वजह से लोगों शारीरिक व मानसिक कमजोरी आजकल ऐसी आम समस्याएं हो चुकी हैं। इन समस्याओं ने हर उम्र के लोगों को घेर रखा है और इन समस्याओं के चलते न आदमी अपना काम ध्यान से कर सकता और न स्वस्थ रह पाता है। ऐसे में यदि आप शारीरिक और मानसिक कमजोरी की समस्याओं से परेशान हैं तो हम आपको बता रहे हैं कुछ घरेलू आसान नुस्खे। इन नुस्खों को अपनाकर किसी भी उम्र का व्यक्ति अपनी कमजोरी दूर कर जवानी जैसा जोश महसूस करने लगेगा। तो आइये जानते है ....

gharelu nuskhe to get rid of weakness


- शारीरिक शक्ति बढ़ाने के लिए रोजाना आंवले का मुरब्बा खाएं। तथा रोज केले खाएं और दूध पीएं।

- अश्वगंधा चूर्ण और बिदारीकंद को 100-100 ग्राम की मात्रा में लेकर बारीक चूर्ण बनाएं और आधा चम्मच चूर्ण दूध के साथ सुबह और शाम लें। यह मिश्रण कमजोरी दूर कर शरीर को ताकत प्रधान करता  है।

- कमजोरी दूर करने के लिए अनार के छिलकों को सुखाकर पीसकर रोज सुबह और शाम एक चम्मच चूर्ण खाएं।

- 100 ग्राम अजवायन को सफेद प्याज के रस में भिगोकर सुखाएं, ऐसा तीन बार करने के बाद इसे कूटकर किसी बोतल में भरकर रख लें। इसके बाद रोज आधा चम्मच चूर्ण एक चम्मच पिसी हुई मिश्री के साथ मिलाकर खाएं। इसके ऊपर से हल्का गर्म दूध पी लें। करीब-करीब एक महीने तक इस मिश्रण का उपयोग करने से कमजोरी दूर होगी।

- रात को सोने से पहले रोज लहसुन की दो कलियां खाएं। इसके बाद थोड़ा-सा पानी पिएं।

-आंवले के चूर्ण में मिश्री पीसकर मिला लें तथा रोज रात को सोने से पहले लगभग एक चम्मच चूर्ण लें।

- रोज रात को सोते समय चार-पांच छुहारे, दो-तीन काजू व दो बादाम को 300 ग्राम दूध में खूब अच्छी तरह से उबालकर और पकाकर दो चम्मच मिश्री मिलाकर पियें।

- कमजोरी में जल्दी लाभ लेने के लिए धाय के फूल, मुलेठी, नागकेशर, बबूलफली बराबर मात्रा में लें तथा इसमें इसकी आधी मात्रा में मिश्री मिलाकर पीस लें। इस चूर्ण का 5-5 ग्राम की मात्रा में सेवन लगातार एक माह तक करें।

- एक चम्मच शहद में एक चम्मच हल्दी पाउडर मिलाकर रोजाना सुबह खाली पेट सेवन करें।

- पुनर्नवा की जड़ों का रस (दो चम्मच) दूध के साथ एक माह तक सेवन करने से बूढ़े व्यक्ति भी युवा की तरह ताकत महसूस करने लगते है।


- 100 ग्राम कौंच के बीज और 100 ग्राम तालमखाना को कूट-पीसकर चूर्ण बना लें। इसमें 200 ग्राम मिश्री पीसकर मिला लें। हल्के गर्म दूध में आधा चम्मच चूर्ण मिलाकर पीएं।

Wednesday, 10 February 2016

अगर हमेशा जवान रहना है तो खाएं ये 5 फूड्स

healthpatrika.com     15:02:00    
आज के समय में कौन ऐसा है जो युवा नहीं दिखना चाहता है। युवा दिखना हर इंसान की प्रमुखता में होता है। औरतें ही नहीं बल्कि पुरुष भी युवा दिखने के लिए उत्साहित रहते हैं। आपको बता दें कि खूबसूरत, खिली-खिली और जवां त्वचा का एक ही राज है वो है- सही खानपान और नियमित जीवनशैली। अगर आपने इन पर संतुलन बना लिया तो बुढ़ापा आपको काफी देर से आयेगा। कई शोधों में यह साबित हो चुका है कि फल-सब्जियों के अलावा ऐसे बहुत सारे फूड्स हैं, जिनमें एंटी-एजिंग तत्व पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं।



ऐवोकाडो : एवोकाडो में विटामिन-E की उपयुक्त मात्रा होती है। इसके अलावा, ऐवोकाडो में पाये जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट स्किन के लिए बेहद लाभकारी होते हैं। ऐवोकाडो स्किन सेल को रिजनरेट करता है। स्किन सेल रिजनरेट होने से त्वचा में ताजगी आती है और आप जवां-जवां दिखने लगते हैं।

किडनी बीन्स ( राजमा) : किडनी बीन्स में फायबर और पोटेशियम की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। यह शरीर के बेड कोलेस्ट्रोल को दूर करने में सहायक होती है। हार्ट की बीमारियों में किडनी बीन्स बेहद लाभकारी होती है। शोधों में यह बात सामने आई है कि किडनी बीन्स खाने से हार्ट की बीमारियों का खतरा कई गुना कम हो जाता है। इसके अलावा किडनी बीन्स में काफी मात्रा में प्रोटीन होता है जो शरीर के लिए लाभकारी होता है।

डार्क चॉकलेट : कोई भी चॉलेट जिसमें लगभग 70 फीसदी कोको होता है वह प्रोटीन और विटामिन-B का खजाना मानी जाती है। इस तरह की चॉकलेट को रोज खान से फैट बर्न होता है और त्वचा और बालों में सुधार आता है।

ब्रोकली : ब्रोकली फाइबर और विटामिन-सी की सबसे अच्छा स्त्रोत है। यह केवल वजन कंट्रोल करने में सहायक नहीं होता बल्कि हार्ट की बीमारियों में भी बेहद फायदेमंद होता है।


ब्लूबेरी : ब्लूबेरी में विटमान-C की अत्यधिक मात्रा पाई जाती है। इससे खून का सर्कुलेशन दुरस्त होता है। ब्लूबेरी में ऐसे एंटी मिनरल पाए जाते हैं जिनमें बुढ़ापे को कम करने के गुण पाए जाते हैं। ब्लूबेरी में पोटेशियम की काफी मात्रा होती है।

Tuesday, 9 February 2016

जानिए वजन कम करने के 7 आसान नुस्खे....

healthpatrika.com     18:25:00    
मोटापा कम करने के लिए लोग क्या-क्या नहीं करते। पैसा खर्च करते हैं और कई बार मूर्ख भी बना दिए जाते हैं। लेकिन क्या आपको पता है, कुछ घरेलू नुस्खे इस्तेमाल कर भी आप जल्दी वजन को घटा सकते हैं। आइए जानते हैं ऐसे ही घरेलू और कारगर वजन घटान के 7 नुस्खों के बारे में-

लौकी- सब्जियों में लौकी बहुत कम लोगों की फैवरेट है, लेकिन जिन लोगों को वजन कम करना है उनके लिए यह बेस्ट उपाय है। लौकी में फाइबर की मात्रा का अधिक होना अैर फैट नहीं होना इसकी खूबी है। और यही खूबी वजन कम करने में सहायता करती है। लौकी में 96 प्रतिशत पानी और 12 कैलोरी होती है। इसलिए इसे खाने से कम कैलोरी शरीर में जाती है और मोटापा दूर हो जाता है।साथ ही खीरा भी आप अपनी डाइट में शामिल कर सकते हैं क्योंकि इसमें भी पानी की मात्रा अधिक पाई जाती है। खीरे में 90 प्रतिशत पानी होता है। यह फैट को कम करता है।

नारियल पानी - प्रकृति का सबसे अनूठा ड्रिंक है नारियल पानी। यह हमारे मैटाबॉलिज्म को मजबूत करता है और इलैक्ट्रोलेट्स से भरा होता है। अल्सर और पेट की समस्याओं के अलावा वजन घटाने में भी यह सहायक है। शरीर में उत्पन्न होने वाले टॉक्सिन को भी नारियल पानी बाहर निकाल देता है। रोजाना एक से दो ग्लास नारियल पानी आपके शरीर में जबरदस्त बदलाव ला सकता है।

ग्रीन टी  और ब्लैक कॉफी - रिसर्च बताते हैं कि ग्रीन टी और ब्लैक कॉफी पीने से मोटापा कम होता है। हालांकि ब्लैक कॉफी को फायदेमंद बनाने के लिए इसमें शक्कर नहीं मिलानी चाहिए। इसे पीन से कुछ ही हफ्तों में वजन कम किया जा सकता है।

ग्रीन टी पीने से भी मोटापे को कम किया जा सकता है। रिसर्चकर्ताओं के मुताबिक ग्रीन टी मैटाबॉलिज्म को बढ़ाता है और इसमें एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसी कारण वजन कम करने के लिए ग्रीन टी यूज करने की सलाह दी जाती है।

खूब पानी पीएं - पानी भी मोटापा घटाने में सहायक होता है। अगर आप खूब पानी पिते हैं तो इससे कैलोरी बर्न करने में मदद मिलती है और यह शरीर में मौजूद टॉक्सिन को मूत्र के माध्यम से बाहर निकाल देता है। ध्यान रखें खाने के ठीक बाद ज्यादा पानी नहीं पिएं।


ये सब्जियां भी असरकारक- लौकी के अलावा और भी ऐसी सब्जियां हैं जो मोटापे की दुश्मन कही जाती हैं। इनमें गोभी, गाजर और टमाटर शामिल हैं। मोटापा कम करने के लिए इन सब्जियों को अपनी डाइट में शामिल करें।

© 2011-2014 Health Patrika. Designed by Bloggertheme9. Powered by Blogger.