Showing posts with label diet. Show all posts
Showing posts with label diet. Show all posts

Wednesday, 12 October 2016

दूध और केला साथ में लेने से होते है ये हेरान कर देने वाले फायदे... जानिए!

healthpatrika.com     22:24:00    
दूध और केला दोनों ऐसी खाने पीने की चीज़ें हैं जिनके फायदे के बारे में हम सभी जानते हैं। लेकिन, जब हम ख़ास दूध-केला डाइट लेते हैं तो इसके फायदे कुछ और बढ़ जाते हैं। तो आज हम आपको बतायेंगे दूध-केला डाइट लेने से क्या क्या फायदे होते है.
health-benefits-of-banana-and-milk-diet-health-tips-in-hindi

1. दूध-केला डाइट :-

बनाना-मिल्क डाइट यानी दूध और केला। दूध और केले की डाइट से आप अपना वजन कम कर सकते हैं। दूध-केला डाइट आपका वजन संतुलन करके आपको फिट बनाये रखता है।

2. दूध-केला डाइट कैसे काम करती है :-

आपको बता दे कि डॉक्टर जॉर्ज हारोप ने 1934 में सबसे पहली बार दूध-केला डाइट प्रोग्राम तैयार किया। इस डाइट प्लान के पीछे ये सोच थी कि शरीर को कम कैलोरी लेने के बाद भी कैसे स्वस्थ रखा जा सकता है। इस डाइट प्रोग्राम में खाने में हर बार दो तीन केला और एक कप फैट फ्री मिल्क लिया जाता है। केला दूध से पहले या बाद में खाया जा सकता है। या आप स्मूदी बनाकर भी पी सकते हैं। बस आपको साथ साथ बहुत सारा पानी पीना चाहिए। इससे आप एक दिन में एक हजार से कम कैलोरी लेंगे।

3. केला-दूध डाइट की विशेषता :-

हर केले में 100 कैलोरी होते हैं। वहीं, एक कप दूध में 80 से अधिक कैलोरी होती है। इसलिए अगर आप इस डाइट प्लान के हिसाब से चलेंगे यानि एक दिन में तीन बार ये डाइट लेंगे तो आप 900 के आसपास कैलोरी लेंगे। जो कि वजन कम करने में बहुत अच्छा होता है।

4. केला-दूध डाइट के फायदे :-

केला-दूध डाइट से वजन किस तरह से कम हो सकता है वो तो हम बता ही चुके है और आप जान भी चुके हैं। लेकिन इसके अलावा भी इसके कई फायदे हैं। इससे त्वचा को बहुत फायदा होता है और मुहांसों के निशान मिटने लगते हैं। दांत सफेद करने के लिए भी ये एक कारगार तरीका है। ये आपकी खूबसूरती बढ़ाता है।

5. केले से होने वाले फायदे :-

केला सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है लेकिन फिर भी कई लोग इसके सेवन से बचते है, लेकिन केले के ये फायदे जानने के बाद वो लोग भी केले का सेवन करने लगेंगे। बता दे कि केला में विटामिन ए, बी, सी और ई, मिनिरल्स, पोटैशियम, जिंक, आयरन आदि कई पोषक तत्व हैं जो आपको सेहत से जुड़े ये बड़े फायदे देंगे।

6. फैट फ्री मिल्क से होने वाले फायदे :-

फैट फ्री मिल्क यानी मलाईरहित दूध में वसा की मात्रा कम होती है, यानी यह कोलेस्‍ट्रॉल कम करने के लिए अच्‍छा आहार है। मलाईरहित दूध में फैट नहीं होता है, लेकिन बाकि सभी जरूरी पौष्टिक तत्‍व होते हैं। मलाईरहित दूध में मौजूद प्रोटीन मांसपेशियों को शक्तिशाली बनाता है। अगर आप व्‍यायाम के बाद स्किम्ड मिल्‍क का सेवन करते हैं, तो इससे मांसपेशियां मजबूत होंगी। इसके अलावा, इसके सेवन से कोशिकाओं में होने वाली टूट-फूट की मरम्मत के लिए शरीर को आवश्यक ऊर्जा भी मिलती है।

7. केला और दूध साथ लेने से होने वाले फायदे :-

जब केले और दूध का सेवन साथ किया जाता है तो शरीर को भरपूर मात्रा में प्रोटीन, विटामिन, फाइबर और मिनरल मिल जाते हैं वो भी बिना फैट के। इस डाइट से जो पोषण मिलता है वो शरीर को तीन चार दिन के लिए ऊर्जा देने के लिए काफी है।

8. इन बातों का रखें ध्यान :-


जब आप केला-दूध डाइट लेंगे तो हो सकता है अचानक कैलोरी कम होने की वजह से आपको कमजोरी महसूस हो। हालांकि ये कमजोरी इतनी भी नहीं होती कि संभाली न जा सके। अगर फिर भी आपको लगे कि कमजोरी है तो आप एक टाइम सामान्य खाना ले सकते हैं और दो टाइम केला दूध। तब भी आपकी कैलोरी कम हो जाएंगी। इसके अलावा, महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान ये डाइट नहीं लेनी चाहिए क्योंकि उनकी आयरन की जरूरत इससे पूरी नहीं होती।

Tuesday, 16 August 2016

जानिए हमारे शरीर के लिए कितना फायदेमंद होता है उपवास!

healthpatrika.com     21:49:00    
एक बार भोजन कर लेने के बाद आपको कम से कम आठ घंटे बाद ही दूसरा भोजन करना चाहिए। इस नियम का पालन आप तब भी कर सकते हैं, जब आप घर से बाहर हों। ये तो बात हुई योग के नियम की, लेकिन फिर भी सामान्य स्थिति में भी किसी इंसान को दो भोजनों के बीच कम से कम 5 घंटे का अंतर तो रखना ही चाहिए। ऐसा क्यों कहा जा रहा है? इसलिए क्योंकि खाली पेट ही हमारा मल उत्सर्जन तंत्र अच्छे तरीके से काम कर पाता है।


आइये इसे एक प्रयोग से समझने की कोशिश करते हैं। मान लीजिए कि आप एक खास मात्रा में भोजन करते हैं। खाने की इस मात्रा को दो हिस्सों में बांट लें और दिन में दो बार इसे खाएं। दूसरी तरफ एक दूसरा आदमी है, जो खाने की इसी मात्रा को 10 हिस्सों में बांट लेता है और दिन में दस बार इसे खाता है। आप देखेंगे कि जो शख्स इसे दस बार खा रहा है, वह मोटा होता जाएगा। जरा सोचकर देखें, दस बार खाने वाले ने भी तो उतना ही खाया, जितनी दो बार खाने वाले ने। फिर ऐसा क्यों हुआ कि दस बार खाने वाले पर मोटापा चढ़ गया और दो बार खाने वाला ठीक ठाक रहा।

आइये जानते है उपवास के फायदे :-

ऐेसा क्यों हुआ? ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि दस बार खाने वाले का मल उत्सर्जन तंत्र ठीक तरह से काम नहीं कर रहा है। ऐसे मामलों में तमाम कचरा जिसे शरीर से बाहर निकल जाना चाहिए था, वह बाहर निकल नहीं पाता, क्योंकि पेट किसी वक्त खाली ही नहीं रहता। वह तो लगातार भरा हुआ है। जब पेट में खाना है और पाचन तंत्र काम कर रहा है तो मल उर्त्सजन तंत्र प्रभावी तरीके से काम नहीं कर पाता। सफाई तभी अच्छी तरह से होती है, जब पेट खाली होता है।

आपने कभी गौर किया है कि जब आप बहुत बीमार पड़ते हैं, बेहद कमजोर हो जाते हैं और फिर जब आप बिस्तर से उठने की कोशिश करते हैं तो आप कैसे चलते हैं?

एक एक कदम फूंक-फूंककर रखते हैं। जब आपका शरीर हल्‍का हो जाता है तो आपके भीतर तमाम दूसरी चीजों के प्रति सजगता अपने आप ही बढ़ती जाती है। मान लें आप बहुत ज्यादा भूखे हैं और खाना आपके सामने रख दिया जाए, तो क्या होता है? आप दोनों हाथों से टूट पड़ते हैं उस खाने पर। दरअसल, जब आप बहुत ज्यादा भूखे होते हैं तो आपका पूरा शरीर बस एक ही चीज चाहता है, उस खाने को जल्दी से जल्दी खा लेना चाहता है, लेकिन तब आप एक पल के लिए रुकें। खाना शुरू करने से पहले हर उस शख्स और चीज के प्रति आभार व्यक्त करें, जिसकी बदौलत यह खाना आप तक पहुंचा है। 

आपको बता दे कि मसलन वह खेत, वह किसान, वह व्यक्ति जिसने खाना बनाया और वह भी जिसने इसे आपको परोसा। इसके अलावा, उस खाने को भी धन्यवाद देना चाहिए, क्योंकि यह आपको जीवन दे रहा है। देखने में भले ही यह छोटी सी बात लग रही है लेकिन यह आप पर आपके शरीर की पकड़ को ढीला कर देती है। इससे यह अहसास होता है कि आप महज एक शरीर नहीं हैं। जब आप बहुत भूखे होते हैं तो आप महज एक शरीर होते हैं। अपने अंदर थोड़ा सा जगह बनाएं अब आपको लगेगा कि आप अब उतने भूखे नहीं हैं। भूख जहां की तहां है, आप भी वहीं हैं, पर फिर भी लगेगा मानो सब ठीक ठाक है। इसी बात को अगर आपने समझने में देर कर दी तो यकीन मानिए आपका उपवास कष्टकारी हो जाएगा।

उपवास का महत्व :-

यहां एक बात और बहुत महत्वपूर्ण है कि किसी भी हाल में जबर्दस्ती न किया जाए। अगर आप शरीर के प्राकृतिक चक्र पर गौर करेंगे तो आपको पता चलेगा कि मंडल नाम की एक चीज होती है। मंडल का मतलब है कि हर 40 से 48 दिनों में शरीर एक खास चक्र से गुजरता है।

हर चक्र में तीन दिन ऐसे होते हैं जिनमें आपके शरीर को भोजन की आवश्यकता नहीं होती। अगर आप अपने शरीर को लेकर सजग हो जाएंगे तो आपको खुद भी इस बात का अहसास हो जाएगा कि इन दिनों में शरीर को भोजन की जरूरत नहीं होती। इनमें से किसी भी एक दिन आप बिना भोजन के आराम से रह सकते हैं।

11 से 14 दिनों में एक दिन ऐसा भी आता है, जब आपका कुछ भी खाने का मन नहीं करेगा। उस दिन आपको नहीं खाना चाहिए। आपको यह जानकार हैरानी होगी कि कुत्ते और बिल्लियों के अंदर भी इतनी सजगता होती है। कभी गौर से देखें, किसी खास दिन वे कुछ भी नहीं खाते। दरअसल, अपने सिस्टम के प्रति वे पूरी तरह सजग होते हैं। जिस दिन सिस्टम कहता है कि आज खाना नहीं चाहिए, वह दिन उनके लिए शरीर की सफाई का दिन बन जाता है और उस दिन वे कुछ भी नहीं खाते। 

अब आपके भीतर तो इतनी जागरूकता नहीं कि आप उन खास दिनों को पहचान सकें। फिर क्या किया जाए! बस इस समस्या के समाधान के लिए अपने यहां एकादशी का दिन तय कर दिया गया। हिंदी महीनों के हिसाब से देखें तो हर 14 दिनों में एक बार एकादशी आती है। इसका यह है कि हर 14 दिनों में आप एक दिन बिना खाए रह सकते हैं। 

अगर आप बिना कुछ खाए रह ही नहीं सकते या आपका कामकाज ऐसा है, जिसके चलते भूखा रहना तुम्हारे वश में नहीं और भूखे रहने के लिए जिस साधना की जरूरत होती है, वह भी आपके पास नहीं है, तो आप फलाहार ले सकते हैं। कुल मिलाकर बात इतनी है कि बस अपने सिस्टम के प्रति जागरूक हो जाएं और यह देखने की कोशिश करें कि कुछ दिन ऐसे हैं, जिनमें आपको खाने की आवश्यकता महसूस नहीं होती। इन दिनों जबर्दस्ती खाना अच्छी बात नहीं है।

उपवास करने के नियम :-

कैसे करें उपवास? मान लो कोई एक निश्‍चित समय के लिए उपवास करना चाहता है। इस उपवास के साथ उसे साधना या इसी तरह की कोई और आध्यात्मिक क्रिया करनी चाहिए। बिना अपने शरीर और दिमाग को तैयार किए अगर आप जबर्दस्ती उपवास करने की कोशिश करेंगे तो इससे आपके सेहत को नुकसान होगा। लेकिन आपका शरीर और दिमाग अगर पूरी तरह तैयार है और ऊर्जा के मामले में भी आपको कोई समस्या नहीं है तो बेशक उपवास रखना आपके लिए बहुत लाभकारी होगा। 

एक बात और, अगर आप बार-बार चाय और कॉफी पीने के आदी हैं और उपवास रखने की कोशिश करते हैं तो आपको बहुत ज्यादा दिक्कत होगी। इस समस्या का तो एक ही हल है। अगर आप उपवास रखना चाहते हैं तो सबसे पहले अपने खानपान की आदतों को सुधारें। पहले सही तरह का खाना खाने की आदत डालें, तब उपवास की सोचो। अगर खाने की अपनी इच्छा को आप जबर्दस्ती रोकने की कोशिश करेंगे तो यह आपके शरीर को हानि पहुंचायेगा।

हो सकता है, आपमें से कुछ लोग ऐसे भी हों, जो इस मामले में भी अपना कमाल दिखाना चाहते हों। हो सकता है, ऐसे लोग तीन दिन का उपवास रख लें और फिर दुनिया को बताते फिरें कि देखो, हमने कितना वीरता का काम किया है। ऐसा भूलकर भी मत करें। याद रखें, इससे आपको हानि ही होगी, लाभ नहीं हो सकता। होगा यह कि आप खुद को कमजोर बना लेंगे। ऐसा कुछ भी करने से बेहतर यह है कि आप अपने अंदर इस बात की गहरी समझ पैदा करें कि शरीर कैसे काम करता है और आपके लिए सबसे अच्छा क्या है।

ऐसा नहीं है कि उपवास करना हर किसी के लिए फायदेमंद है, लेकिन हां, पूरी समझ के साथ इसे किया जाए तो इसके अनगिनत फायदे हो सकते हैं। तो बस अपने शरीर की उस खास स्थिति को पहचानें और उस दौरान खाना छोड़ दें। यही उपवास करने का सबसे अच्छा तरीका है।

Wednesday, 10 August 2016

अगर आप अधिक मीठा खाते हैं तो हो जाएं सावधान, हो सकती हैं ये 7 बीमारियां!

healthpatrika.com     09:10:00    
क्या आप जानते हैं इस मीठे से आप कई बीमारियों का शिकार हो सकते हैं। तो आइये जानते है अधिक मीठा खाने से क्या नुकसान होते है...
reasons-why-you-should-quit-sugar-health-tips-in-hindi

1.वजन बढ़ना :- बहुत से मीठे खाद्य पदार्थों को खाने से मोटापा बढ़ने लगता है। मीठे के कारण मोटापे की समस्या हो जाती है और फैट शरीर में स्टोर होने लगता है जिसके कारण कमर के आसपास के हिस्से में मोटापा बढ़ने लगता है। और पेट लटकने लग जाता है।

2.डायबिटीज का खतरा :- मीठा खाने से सीधे तौर पर तो शुगर नहीं होती लेकिन लगातार मीठा बहुत अधिक खाने से इंसुलिन लेवल बढ़ जाता है जिससे डायबिटीज का खतरा भी बढ़ने लगता है। डायबिटीज और मोटापा होने से हार्ट प्रॉब्लम्स भी होने लगती हैं और मेटाबॉलिक सिंड्रोम होने का खतरा बढ़ जाता है।

3.कॉलेस्ट्रॉल स्तर का बढ़ना :- अधिक अधिक मीठा खाने से कॉलेस्ट्रॉल लेवल भी बढ़ने लगता है। जिससे हार्ट फंक्शन पर दबाव पड़ता है।

4.दिल की बीमारियों का खतरा :- अधिक शुगर के सेवन से ब्लड वैसल्स पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है और दिल की बीमारियों का खतरा बढ़ने लगता है।

5.प्रतिरक्षा तंत्र होता है कमजोर :- अधिक मीठा खाने से शरीर में इंफेक्शंस और बैक्टीरिया से लड़ने की ताकत कम हो जाती है।

6.लीवर के लिए ख़तरनाक :- अधिक शुगर के सेवन से लीवर पर अधिक दबाव पड़ता है। साथ ही ये फैट के रूप में लीवर में स्टोर होती रहती है। इससे व्यक्ति को नॉन एल्कालिक फैटी लीवर डिजीज भी हो जाती हैं।

7.एंजाइटी और डिप्रेशन :- आपको जानकर हैरानी होगी लेकिन शुगर में मूड बदलने की क्षमता होती है। शुगर की वजह से थकान होना, एंजाइटी और डिप्रेशन होना आम बात है। दरअसल, शुगर से डोपामाइन स्तर बहुत बढ़ जाता है। जिससे एंजाइटी डिस्ऑर्डर होना, डिप्रेशन और बहुत गुस्सा आना जैसी शिकायतें होनी लगती है।

Tuesday, 26 April 2016

रोज सुबह केला खाकर एक गर्म कप पानी पिने के फायदे जानोगे तो हेरान रह जाओगे आप... जानें!

healthpatrika.com     20:22:00    
Gharelu Nuskhe :अधिक लाभ पाने के लिए लोग नाश्‍ते में केला खाना पसंद करते हैं। रोज सुबह नाश्ते में केला खाने से एनर्जी मिलती है और इसके साथ ही सूकरोज, फ्रक्टोज और ग्लूकोज जैसे पोषक तत्व भी मिलते हैं। इस पीले फल में हल्‍का सा हरे रंग का स्‍पर्श होता हैं। जो स्‍टार्च और स्‍वस्‍थ कार्बोहाइड्रेट के सबसे अच्‍छे स्रोतों में से एक माना जाता है और सुबह नाश्‍ते में केला खाने से आपको दोपहर तक भूख महसूस नहीं होती है। इससे आप भरा-भरा महसूस करते है।

gharelu-nuskhe-benefits-of-a-banana-and-cup-of-warm-water-in-hindi

केले के साथ गर्म पानी लेना कितना फायदेमंद है :- विश्‍वभर में लोग आ‍हार में केले का बहुत अधिक मात्रा में इस्‍तेमाल करते हैं। और कुछ इस हद तक कि रिपोर्ट बताती है कि जापान में केले की कमी होने लगी हैं। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि सुबह के समय केले खाने के बाद एक कप गर्म पानी पीना वजन घटाने में बहुत ही मददगार होता है।

सुबह के नाश्ते में केले और गर्म पानी को शामिल कर आप इसके बेहतरीन फायदे पा सकते हैं। केले के साथ बस एक कप गर्म पानी का प्रयोग करके ना केवल आप वजन को कम कर सकते है बल्कि आपको सही आकार देने में भी बेहद मददगार होता है। अब तक किए गए कई शोधो में मॉर्निंग में केले खाने के बेहतरीन फायदों को बताया गया।

यहं कैसे करता है काम :- स्टार्च और हेल्दी कार्बोहाइड्रेट से भरपूर यह डाइट दिनभर में आपके शरीर पर चढ़ने वाले मोटापे को कम करने में आपकी मदद करती है। सुबह के नाश्ते में केले के साथ गर्म पानी का सेवन देर तक आपका पेट भरा रखने में मदद करने के साथ एनर्जी के स्तर को भी बनाए रखता है।

केला न केवल आपके मेटबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद करता है, बल्कि आपके पाचन तंत्र को बेहतर कर पाचन क्रिया को सुधारने में भी मदद करता है। दूसरा केला एक प्रकार के स्टार्च से भरपूर होता है, जिसमें ग्लाइसेमिक इंडेक्स की मात्रा बेहद कम होती है। साथ ही इसमें मौजूद फाइबर आपको कब्ज की समस्या से निजात दिलाने में फायदेमंद साबित होता है और आपको संतुष्टि देने के साथ ही कार्बोहाइड्रेट के अतिरिक्‍त अवशोषण को रोकने में मदद करता है।

केले के साथ गर्म पानी लेने से पाचन दुरुस्‍त होता है। गर्म पानी एक प्राकृतिक शक्तिवर्धक है। यह शरीर को हाइड्रेट कर ऑक्‍सीजन के स्‍तर को बढ़ाता है। केला खाने के बाद आपको तरोताजा और अलग सा महसूस होता है। केले के साथ गर्म पानी का गिलास पिने से आप अतिरिक्‍त कैलोरी और अतिरिक्‍त शुगर के बिना भरपूर एनर्जी और सेहत पा सकते हैं। तो आप कब शुरू कर रहे हैं, मॉर्निंग बनाना डाइट?

Monday, 25 April 2016

रोज नाश्ते में खाए एक अंडा फिर जो फायदे होंगे हेरान कर देने वाले... जानें!

healthpatrika.com     22:32:00    
ये तो हम सभी जानते हैं अंडे में कई तरह के पोषक तत्व मौजूद होते है, लेकिन क्या आप इसके खाने के फायदों के बारे में जानते हैं। जी हाँ, आज हम आपको कुछ ऐसे कारण बता रहे हैं जिनको पढ़कर आप भी जरुर चाहेंगे अंडा खाना।

benefits of eat daily eggs in hindi

यदि आप हेल्दी रहना चाहते हैं तो अंडे खाइए। अंडे में सबसे पोषक पदार्थ अंडे की जर्दी होती है जिसमें 90 फीसदी तक कैल्शियम और आयरन होता है। आइये जानते हैं अंडे से होने वाले फायदे... 

एक छोटे से अंडे में कई तरह के विटामिन पाएं जाते हैं। जो कि फिट रहने के लिए बहुत जरूरी होते हैं। अंडे में पाए जाने वाला विटामिन B2 शरीर को ताकत देता है। विटामिन B12 रेड ब्लेड सेल्स बनाता है। विटामिन A आंखों के लिए बहुत ही अच्छा है। विटामिन E शरीर में नष्ट होने वाले टिश्यू को नष्ट होने से रोकता है साथ ही कैंसर के खतरे से भी बचाता है। इतना ही नहीं, विटामिन B2 और विटामिन E बच्चों के विकास के लिए बहुत फायदेमंद है। 

गजब की बात यह है कि अंडे खाने से आप वजन भी घटा सकते हैं. ये बात उन लोगों को हैरान कर सकती है जो ये सोचते हैं कि अंडे में फैट होता है लेकिन नई रिसर्च ये बताती है कि सुबह के नाश्ते में अंडे खाने से आप कम कैलोरी खाते हैं यानी आप 400 कैलोरी खाते हैं और हर महीने तकरीबन 1 से डेढ़ किलो वजन कम कर सकते है। अंडा खाने से ना सिर्फ वजन नियं‍त्रि‍त होता है बल्कि इससे ब्लड कॉलेस्ट्रॉल लेवल भी बढ़ जाता है।

अंडे में आयरन, जिंक और फास्फोरस की उचित मात्रा पाई जाती है। मिनरल शरीर के लिए बहुत जरूरी होते हैं। माहवारी के समय महिलाओं को आयरन की बहुत जरूरत होती है। साथ ही अंडा खाने से शरीर की थकान मिट जाती है। जिंक इम्यून सिस्टम को बढ़ाने और शरीर को ऊजावान बनाने में मदद करता है। दांतों और हड्डियों के लिए फास्फोरस की जरूरत होती है। थॉयरॉइड हार्मोंन के लिए आयोडीन की जरूरत पड़ती है जो कि अंडे में पाया जाता है। 

एक मीडियम अंडे में 70 से 85 तक कैलोरी होती है यानी 6.5 ग्राम तक प्रोटीन। तीन अंडो में 210 से 255 तक कैलोरी हुई जिसमें 19.5 ग्राम प्रोटीन होगा। जबकि हर महिला को एक दिन में 50 ग्राम प्रोटीन की जरूरत होती है। दरअसल, प्रोटीन आपके वजन और रोजाना की एक्टिविटी पर निर्भर करता है। 

हार्वड यूनिवर्सिटी की 2003 के अध्धयन के मुताबिक, अंडे खाने से व्यस्क महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर का खतरा टल जाता है। 2005 की एक अन्य स्टडी के मुताबिक, जो महिलाएं एक सप्ताह में 6 अंडे तक खाती हैं उनमें 44 फीसदी ब्रेस्ट कैंसर का खतरा घट जाता है। अंडे को आप किसी भी रूप में खा सकते हैं जरूरी नहीं की उबले हुए अंडे ही खाएं। तो आप भी स्वस्थ रहने के लिए रोज खाए अंडे।

© 2011-2014 Health Patrika. Designed by Bloggertheme9. Powered by Blogger.